cg shayari | Funny chhattisgarhi Shayari

Posted by

cg shayari-chhattisgarhi Shayari:

CG Shayari is most popular in these days so we are providing you the best collection on cg shayari by this post.

जाथौं  बाजार बिसाथौं पापड़।
तोर जइसे लड़का ल लगाथौं झापड़।।

.मैं तोर से मया करेंव अबला समझ के ।
तोर दद ह मारीच मोला तबला समझ के ।।

.बांमी नही टेंगना इही हमर रेंगना।
कांड़ी नही मूसर तै नही दूसर।।

cg shayari image
cg shayari image

 

जादा तैं झन इतरा एक दिन बहुत पसताबे।
मोर चाट के ठेला म बरतन धोये ल आबे।।

.गुरुजी गुरुजी चाम चटिया ।
गुरुजी ल मारौं उठाके पटिया।।

मोर पाछू झन पड़ एक दिन बहुत पसताबे।
मोर कालेज के आघू म चाट के ठेला लगाबे।।

.दिया अधूरा हे बाती के बिना ,नदिया अधूरा हे पानी के       बिना।
जिनगी अधूरा हे साथी के बिना ,अउ मैं अधूरा हौं तोर बिना।।

तोर मया के बोली खातिर सुधबुध में ह गवां गेंव।
बिना पानी के मछरी बरोबर तड़प के में ह अधिया गेंव।।

जादा झन कर न रूप के गुमान मोर चिरइया।
चार दिन के चांदनी फेर नई रहय कोनो पूछईया।।

best funny chhattisgarhi shayari:

.तोला  देखे बर घेरिबेरी तोर पारा में ह जाथौं।
कतका उदिम करथौं तब एक झलक ल पाथौं।।

लेके गड़वा बाजा संगी तोर घर मैं आहूं।
भाँवर पराके संगी तोला मैं ले जाहूं।।

करले तै भरेसा संगी मन म तोला बसाहुँ।
आँखि आँखि म झूलत रथस रानी तोला बनाहुँ।।

.तोर सुरता के आंसू म, मोर सपना ह धुला गे।
कोन तोला भरमाइस ,करे वादा ल तैं भूला गे।।

.मन करथे तोर मया के छइहा म अइसने जिनगी बितातेंव।
एक जनम के बात कोन कहै सातो जनम निभातेंव।।

 

.

cg shayari 2
cg shayari 2

 

 

करे रेहे वादा जियत भर नई छोड़व कहिके।
तोर बिना मोर कोन हे का करहुं दुनिया म जीके।।

.दूसर के मया म मोला भुला गेय।
हँसाये के वादा करके धर-धर आंसू रोवा देय।।

 

funny chhattisgarhi Shayari:

तोर मया के सुक्खा तरिया म मछरी कस तड़पत हौ।
कहां तैं लुकागे रे पगली गली गली म भटकत हौ।।

cgshayari 3
cgshayari 3

 

.जा सुख से जिनगी बिताबे ,फूल कस जीवन माहकय     तोर।
ए मयारू के दुआ हे ,तोर बांटा के कांटा घलो हो जावय मोर।।

मोर सहीं मयारू, नई मिलय तोला दुनिया म।
झन कर तैं आनाकानी, आजा मोर बइंहा म।।

.दुरस संग बिहाव रचाए मोर दुनिया म आगी लगाए।
जा मोर कलपना धरही तोला धोखा दे के मजबूरी बताए।।

अब तो आजा बइहा म कलप कलप के बलावत हौं।
छोड़ दे दुनियादारी संगी तोर मया के जोत जलावत हौं।।

.तोर कारन मैं सब ला छोड़ेव घर दुवार परिवार।
तोर मया म बइहा होके किंजरेव खारेखार।।

जारे धोखेबाज तहूँ एक दिन धोखा खाबे।
मया करईया डिड़वा ल छोड़ काखर मेर जुड़ाबे।।

chhattisgarhi Shayari with image:

धोखा देके मारे करेजवा ल बना दिल के पीरा होगे अपार।
अब तो साथी कोनो नई हे मोर जीना होगे बेकार।।

दिल के दरद ल काला बतावव कोनो नई हे सुनईया।
ओहू मोला धोखा देदिस जेन एक झन रहिस पूछईया।।

तोर बिना मोर मन हे उदास बासी फूल कस मुझावत हौं।
अब तो आजा रे नीरदइया तोला मैं गोहरावत हौं।।

हीरदय म करके चल देहे घांव कब आबे मोरे गांव।
देखत रहीथौं मैं तोर रस्ता ओ बइठे पीपर के छांव।।

दिल म करके चल देये घांव कब आबे मोरे गॉंव।
देखत रहीथौं मैं तोर रस्ता ओ बइठे पीपर के छांव।।

खाए रहे किरिया हवै तोर बर पिरिया।
मोर मया ल ठुकरा के बन गे दूसर के तिरिया।।

दाई दद ल तियागेन्व गॉव घलो ल भुलागेन्व।
बइहा पगला कस घुमत हौं सपना तको धुलादेंव।।

जादा झन कर न रूप के गुमान ।
चार दिन के चांदनी फेर अंधेरी रात।।

मोर मया ल तैं नई समझे ,दूसर के बात म मोला भुलाए।
कोन जनम के बदला चुकाए,धर धर आंसू मोला रोवाए।।

तोर  हिरदय के तरिया म डुबकी मैं लगा लेतेंव,
तोर अचरा के छइन्हा म गोरी जिनगी घलो बिता लेतेंव।
एक जनम ल कोन कहै सातो जनम निभातेंव मैं,
एक बार तैं हां कहिदे बिछे खटिया म जेवन करातेंव मैं।।

मया पिरित के बंधना म बांधे मन म मोर समागे।
तोर बिना मोर दिन नई पहावय कोन दुनिया म तैं लुकागे।।

.तोर मया म बइहा होगेंव अन पानी नई सुहावते।
कब तैं ह मोर से बिहाव करबे दिन ह नई पहावते।।

.तोला देखे बिना मन नई मानय, दउड़ दउड़ के आथों तोर पारा।
तोर दद ल ससुर बनाहूं तोर भाई ल मोर सारा।।

amazing chhattisgarhi shayari:

दुनिया के तैं भूख मिटाए,जन-जन के तैं मितान।
तोर कइसे करजा चुकाहूँ ग,मोर देश के करमठ किसान।।

अरे मोर मयारू दौनापान,डोहड़ू फुलकस तोर मुस्कान।
तोर इही अदा म मैं मोहागेंव, गौकिन, सिरतो, इमान।।

.तोर घर मोर मंदिर ,तैं मोर देंवता।
मैं तो हामीं भर देवँ जी, भेजवादे अब नेवता।।

तोर जइसे मोरो हाल हे, लटपट रात पहाथे।
बाजागाजा ले के आजा,नई तो लेजा मोला भगाके।।

नजरे नजर म तैं बसगे,काम बुता म मन नई लागय।
तोला लगथे मैं मया नई करौं,रात रात भर आँखि जागय।।
.का करौं मोर मयारू, सुरता तोर सताथे।
काम बुता म मन नई लागै, रतिहा लटपट पहाथे।।

best chhattisgarhi Shayari:

भारत माता के हम बेटा, देश आघू बढ़ाबो।
स्कूल जाबो पढ़बो लिखबो,दुनिया म नाम कमाबो।।

दाई के मोर अचरा के छईंहा,दद के मया अपार ।
इंखरे सेवा कर ले रे संगी,हो जाही तोर बेड़ा पार।।

पानी बादर घाम ल सही के, उपजाथच तैं अनाज।
तोरे करम के  बल म भईया, आघू बढ़थे समाज।।

.हरियर हरियर लुगरा पहिरे,ईहां के फसल हे तोर चिन्हारी।
आनी बानी के गहना पहिरे, जय हो मोर छत्तीसगढ़ महतारी।।

फिरि के मोबाइल संगी,दु रुपया किलो चाउंर खाथौं।
कमा लेथों एको दु रुपया त ,सांझ कन पउवा मार के आथौं।।

कांटा बोंके के मोर रसता म,उखरा पाँव रेंगाए ओ।
सादी करे तैं दूसर के संग म,मोर नाम के मेहंदी लगाए ओ।।

कतका घूमेंव तोर पाछु म,फेर मुड़ के कभू नई देखे रे।
करे बिहाव मोला ठेंगा दिखाए,थोरको सुध घलो नई लेहे रे।।

.

छोड़ मोला तैं शादी रचाये ,पति संग दुनिया बसाये ओ।
बरस बीते बाद तैं आ के, मिटे घांव ल फेर से जगाए ओ।।

here we are providing you the best collection on Chhattisgarhi Shayari. you can also share these Shayari on your Facebook and Whatsapp. if you like this post then please rate this post and comment below thanks for the visit here if you want to read love Shayari and Kumar Vishwas Shayari then visit on cgshayari.

this is the best collection of cg shayari on internet like this post and rate it if you like our post on chhattisgarhi  shayari.chhattisgarhi shayari have a different tone or way to show the expressions or feelings here is more laughter or more love in chhattisgarhi shayari.

 

 

 

Please follow and like us:

Last Updated on

Summary
cg shayari| chhattisgarhi shayari
Article Name
cg shayari| chhattisgarhi shayari
Description
in this article, we are provided some of the best collection of cg shayari. available on the internet.
Author
Publisher Name
cgshayari.in
Publisher Logo

3 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *